“केसरी”(Kesri)(Saffron)

केसरी रंग हमारे जीवन का अभिन्न अंग है। केसरिया सात्विक माना गया है। सूर्योदय हो या सूर्यास्त, केसरिया रंग अपनी छटा बिखेरता ही है। अग्नि की आभा में भी केसरिया रंग की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। केसरी जो लाल और पीले रंगों का मिश्रण है, इसे देखते ही सारी निराशाएं मिट जाती हैं। यह नवीनता और सृजनता का प्रतीक है।

(Saffron color is an integral part of our life. Saffron is considered virtuous. Whether it is sunrise or sunset, the saffron color spreads its shadow. Saffron color also plays an important role in aura of fire. Saffron, which is a mixture of red and yellow colors, dissipates all disappointments upon seeing it. It is a symbol of newness and creativity.)

हवाओं का रुख है
दिशा केसरी में,
चला चल खिंचा चल
दिशा केसरी में,
सुना है पवन
केसरी हो गई है,
बहा चल पवन संग
दिशा केसरी में,
डूब जा केसरी में
लगा प्रेम गोता,
समंदर की लहरें
हुई केसरी हैं,
सूर्योदय पूर्व का
केसरी है,
आभूषण स्वर्ण के
केसरी हैं,
कश्मीर का केसर
केसरी है,
पकी गेहूँ खलिहानों में
केसरी है,
नवीनता सृजनता
घटित हो रही है,
ध्वजा केसरी हैं
गुंबद केसरी हैं,
सर्वत्र केसरी है
सर्वत्र ईश्वरी है।

20 thoughts on ““केसरी”(Kesri)(Saffron)

  1. Jasye ek chutki kesar apna rang aur khushboo mithye me bikher deti hai……..mera pyara chota bhai bhi choti si kavita meapne hunar ki chata bikher deta hai👍🏼👍🏼💕💕

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s