“एक” (One)

सबके ह्रदय रूपी मन्दिर में प्रकाशवान एक ही परमात्मा है। नाम चाहे जो रख लें, रूप चाहे जो देख लें, पर वह अनंत एक ही है।
There is only one God illuminated in everyone’s heart temple. Whatever you name, whatever you see but that infinite is only one.

एक ही तो
सत्य है,
एक ही तो
मुक्त है,
एक ही तो
व्याप्त है,
एक ही तो
व्यक्त है,
एक ही
धरा पे है,
आकाश में भी
एक है,
एक ही
ब्रह्माण्ड में है,
और परे भी
एक है,
एक ही से
दो बना है,
दो से ही
अनेक है,
अनेक ही
फैलाव सारा,
अंत में फिर
एक है,
एक ही
आधार है,
एक ही आनंद है,
एक ही में
सुख है सारा,
एक ही
परमानंद है।


21 thoughts on ““एक” (One)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s