“छोड़ दो”(Leave it)

क्रोध से दूसरे का कम, अपना अधिक नुकसान होता है। शरीर और मन पर दुष्प्रभाव तो पड़ता ही है, कभी कभी इस कारण धन की हानि भी सहनी पड़ती है। इसके आते ही इसकी विदाई करना ही जिंदगी को खुशहाल बनाता है।
Anger destroy ourselves more in comparison to others. This is not only bad for body and mind, sometimes it also causes loss of money. It’s farewell as soon as it arrives makes life happy.

क्यों खफा हो,
क्यों दुखी हो,
किससे है नाराजगी,
है चार दिन की चांदनी,
फिर कहां है जिंदगी,
गई है तन क्यों भृकुटी,
अकड़ है ज्यों हो लकड़ी,
भड़क के ज्वाला क्रोध की,
भस्म करती जाएगी,
तन मन और धन को भी,
राख में मिलाएगी,
वक्त जो कुछ भी मिले,
थोड़ी सी कर लो बंदगी
छोड़ दो यह गुस्सा वुस्सा,
आ जायेगी ताजगी,
मुस्कुरा लो खिलखिला लो,
यही तो है जादूगरी,
जिंदादिली से जो जियो,
खुशहाल होगी जिंदगी।


13 thoughts on ““छोड़ दो”(Leave it)

  1. Your poems are based on true stories of life….reality is that what you have written …but to control anger is very tough job….😛😄 Nice poem👌👌👌👌

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s