“कपट”Flam




कुछ लोग अपने मन में दूसरे के लिए सदैव मैल रखते हैं और गाहे बगाहे उसे किसी न किसी तरह से दुख पंहुचाकर बहुत खुशी महसूस करते हैं। अगर इतना ही ध्यान वह अपने ऊपर दे दें तो खुद भी सुखी रहें दूसरे भी।
some people have poor nature for others and they feel happiness in other’s grief.They too can become happy like others, If they try to improve themselves.

मन भीतर है भरी कपट,
काम बिगाड़े बन लंपट,
कान भरे – भड़के – भड़काए,
अंतर भीषण अग्नि लपट,
मक्कारी में रहे लिपट,
स्वार्थ में अंधा रहे चिपट,
आए दिन करता खटपट,
दूजे का सुख रहा झपट,
सुन ले खोल के कान के पट,
छोड़ दे यह सब उठापटक,
कर ले मन की साफ सफाई,
नहीं तो तू जाएगा निपट,
इतनी जल्दी न तू निपट,
कर तौबा अब छोड़ कपट,
कर ले कुछ दुनिया की भलाई,
बस जा सबके दिल के निकट।


Please comment, share and follow my bog, Thanks. Jasvinder singh


http://www.keyofallsecret.com

17 thoughts on ““कपट”Flam

      1. कपट कभी जीवन में काम नहीं आता
        सत्य की राह सबसे अच्छी इसमें सुकून और शांति है।

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s