सत्य का दीप Lamp of Truth

यदि हमें अपने समस्त प्रारब्ध की स्मृति हो जाए तो हो सकता है कि हम लज्जा से स्वयं से ही दृष्टि न मिला पाएं। तो क्यों न हम इस बार स्वंय में सुधार लाकर अपना स्वर्णिम भविष्य सुनिश्चित करें।
If we get power to memorise our all previous lives, may be we become shy for our misdeed.
So why don’t we ensure our golden future by improving ourselves in this present life.

दृष्टि दर्पण से मिलाकर,
देख ले अंतर पतित,
जन्मों जन्मों का किया,
जो हो गया है विस्मृत,
स्मृत जो हो जाएगा तो,
हो जाएगा फिर लज्जित,
कर ले तौबा दुष्कर्मों से,
दिल से कर ले प्रायश्चित,
छोड़ दे लालच,
और कितना करेगा एकत्रित,
कर ले अध्ययन गहन,
विचार कर ले संकुचित,
अब न कर अपना पराया,
स्वयं में हो प्रतिष्ठित,
कर के खेती प्रेम की,
सच को कर ले अंकुरित,
तोड़ बेड़ी सीमाओं की,
कर स्वयं को असीमित,
मांज धूमिल अंतःकरण,
और कर ले उज्जवलित,
जला के दीप सत्य का,
कर ह्रदय में प्रज्ज्वलित।


Please follow http://www.keyofallsecret.com

8 thoughts on “सत्य का दीप Lamp of Truth

  1. Hamko is sansaar rupi samunder ko prem rupi naiya me pyar apnye samnye walye ka satkaar..sachhai..bhakti… Sarye achhye karam karty huye …paar karna hai …..tabhi hum param pita parmeshawar se milap kar sakye ge…….💐💐💐💐💐attii sunder rachna aapki🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s