मैं रहता हूँ उस देश में

मैं रहता हूँ उस देश में,
जहाँ नानक की भक्ति है,
गुरु गोबिंद की शक्ति है,
जहाँ धर्म की आन की खातिर,
शीश लुटाए जाते हैं,
जहाँ पे मांओं के बच्चे,
चक्की में पिसाए जाते हैं,
जहाँ पे नन्हे नन्हे प्राण,
भालों पे नचाए जाते हैं,
जहाँ फतेह जोरावर सिंह,
दीवारों में चिनाए जाते हैं,
जहाँ गुरु अर्जुन देव जी,
अंगारों पे बिठाए जाते हैं,
जहाँ पे भाई मतीदास,
आरों पे चढ़ाए जाते हैं,
जहाँ पे भाई मनी सिंह,
अंग-अंग कटवाए जाते हैं,
जहाँ चांदनी चौक में गुरु,
शीश लुटाए जाते हैं,
जहाँ गीदड़ से परिवर्तित कर,
सिंह सजाए जाते हैं,
जहाँ पे सन्तों के द्वारा,
भगवान मिलाए जाते हैं,
हाँ, मैं रहता हूँ उस देश में।


Please follow. http://www.keyofallsecret.com

13 thoughts on “मैं रहता हूँ उस देश में

  1. Dhan Shri Guru Arjan Dev Ji Maharaj…Aise Gur Ko Bal Bal Jaiye Aap Mukat Mohe Tare…Bahut hi Sunder Kavita…Beautiful idea

    Liked by 1 person

  2. Jin shaidyo ka varnan aap ne apni rachna me kiya hai un shahidyo ko shat shat pranaam🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻💐💐💐💐💐Aap ki desh bhakti ko bhi pranaam🙏🏻🙏🏻🙏🏻

    Liked by 1 person

  3. Is kavita LIkhne ke liye aapko shat shat Naman, ” जप्यो जिन अर्जन देव गुरु ,फिर संकट जून गर्व नहीं आवे “

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s