गुरु गोबिंद सिंह जी

प्रकाश पर्व

वाह गुरु प्रकाश हुआ जब तेरा
सूरज को नया नूर मिला
चमके तारे अजब चमक से
चंद्रमा का प्रकाश बढ़ा
मृत प्रायः समाज के भीतर
नई उमंग नया जोश चढ़ा
मुरझाते धर्म के पौधों में
नव जीवन का संचार हुआ
रोती मिटती मरती जनता ने
सन्त सिपाही रूप धरा
अमृत पाकर धन्य हुए सब
सबमें शक्ति का रूप दिखा
माता पिता पुत्र सब वारे
तब ही तो सच धर्म बचा
हे गोबिंद तेरी क्या कीरत गाएं
तुझसे ही भारत वर्ष सजा
तुझसे ही भारत वर्ष सजा


http://www.keyofallsecret.com

12 thoughts on “गुरु गोबिंद सिंह जी

  1. Sawa laakh se ek laraun tabhye Gobind Singh naam kahaun🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻💐💐💐💐Very nice lines❤

    Liked by 2 people

Leave a Reply to Satbir kaur Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s