Blog

लौट आ ऐ बचपन

होश संभालने के बाद से लेकर जब तक हम मासूम रहते हैं…वह अवस्था कितनी अच्छी होती है…वह समय कितना मधुर होता है…जैसे जैसे समझ बढ़ती जाती है, उस मधुरता का रस भी सूखने लगता है। काश, फिर से वही निस्वार्थ मस्ती भरा बचपन फिर से लौट आए…

सांसें Breath

हम पर बड़ी मेहरबानी है कि हमें सांसों का तोहफा मिला हुआ है। इससे पहले कि यह खत्म हो जाएं, हम ऊपर वाले का शुक्रिया अदा करें और सभी के लिए अपने दिल में मोहब्बत और हमदर्दी रखें।
Almighty God has given all of us precious gift in the form of breaths. We should all thank God and should keep compassion in our hearts for all beings.
Hum par badi meharbani hai ki hamen sanson ka tohfa mila hua hai. Isse pahle ki yeh khtm ho jayen, hum upar wale ka shukriya ada karen aur sabhi ke liye apne dil me mohabbat aur humdardi rakhen.

सत्य का दीप Lamp of Truth

यदि हमें अपने समस्त प्रारब्ध की स्मृति हो जाए तो हो सकता है कि हम लज्जा से स्वयं से ही दृष्टि न मिला पाएं। तो क्यों न हम इस बार स्वंय में सुधार लाकर अपना स्वर्णिम भविष्य सुनिश्चित करें।
If we get power to memorise our all previous lives, may be we become shy for our misdeed.
So why don’t we ensure our golden future by improving ourselves in this life.
Yadi hume apne samast prarabdh ki smrti ho jaye to ho sakata hai ki ham lajja se swyam se hi drishti na mila payen. To kyon na hum is bar swyam mein sudhaar laakar apna swarnim bhawishy sunishchit karen.

प्रेम गली Alley of Love

परम् सत्ता का कोई अलग घर नहीं है। उसके घर का रास्ता हमारे घर में ही है… आवश्यकता है तो उस गली, उस रास्ते को खोज निकालने की, जिसे सन्तों ने प्रेम का मार्ग बताया है। उसी प्रेम पथ अग्रसर होना ही हमारा भविष्य है।
There is no separate house of Almighty God . The way to his house is situated inside us….there is need to find that alley, that path, which is named by Saints “the path of love”. Walking on the same love path is our future.
Param satta ka koi alag ghar nahin hai. Uske ghar ka rasta hamare ghar mein hi hai… Aawashyakata hai to us gali, us raste ko khoj nikalane ki, jise Santon ne “Prem ka marg” bataaya hai. Usi prem path par agrsar hona hi hamara bhawishy hai.

खुशियां Happiness

अक्सर हम खुशियों को बाहर ढूंढते फिरते हैं। इसमें क्षणिक खुशियां तो मिल जातीं हैं पर फिर से वही उदासी हमें घेर लेती है। जबकि इसके विपरीत खुशियां तो हमारे भीतर सदा से ही विद्यमान हैं… आवश्यकता है उन्हें भीतर से ही खोज निकालने की। प्रस्तुत है हल्के फुल्के हास्य के साथ यह कविता…    aksar ham khushiyon ko baahar dhoondhate phirate hain. isamen kshanik khushiyaan to mil jaateen hain par phir se vahee udaasee hamen gher letee hai. jabaki isake vipareet khushiyaan to hamaare bheetar sada se hee vidyamaan hain… aavashyakata hai unhen bheetar se hee khoj nikaalane kee. prastut hai halke phulke haasy ke saath yah kavita…

                      Often we search happiness outside and we get success but for a short time and again the same sadness surrounds us. While on the contrary, happiness always exists within us… There is need to find it from within…Presenting poetry with light hearted humor…

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.


Follow My Blog

Get new content delivered directly to your inbox.