Blog

World Environment Day 5th June 2022 “मानव का धरा से संवाद”

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर Biodiverse Forest, Nalagarh में नालागढ़ साहित्य कला मंच के प्रसिद्ध साहित्यकारों के साथ IFS अधिकारी S. Yashudeep Singh जी के संरक्षण में कवि सम्मेलन में भाग लिया…प्रकृति मां की गोद में बैठ कर कविता पाठ करने में आनंद ही आनंद है… ओ धरा क्यों सूख रही,क्यों मानवता से रूठ … Continue reading World Environment Day 5th June 2022 “मानव का धरा से संवाद”

चिंता Worries

जीवन में सुख व दुख दोनों ही अपने निर्धारित समय पर आते जाते रहते हैं। सुख के तो कहने ही क्या…वह तो दुख ही है जो बेचैनी, चिंता व अवसाद देता हुआ चिता ही बन जाता है, पर यदि इस चिता रूपी चिंता को चिंतन में परिवर्तित करने का प्रयत्न करें तो मन शांत व स्थिर होना शुरू हो जाता है।

Both happiness and sorrow keep coming and going at their fixed time in life. Happiness is amazing. It’s the only sadness that turns into a pyre giving restlessness, anxiety and depression, but if you try to convert this grave-like worry into positive contemplation, then the mind starts to become calm and stable. jeevan mein sukh-dukh donon apane niyat samay par aate-jaate rahate hain. khushee adbhut hai. keval udaasee hee chita mein badal jaatee hai jo bechainee, chinta aur avasaad detee hai, lekin agar aap is gambheer chinta ko sakaaraatmak chintan mein badalane kee koshish karate hain, to man shaant aur sthir hone lagata hai.

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.


Follow My Blog

Get new content delivered directly to your inbox.