varmala

वरमाला (Varmala)

जीवन की प्यारी बगिया में,
हंसो खेलो मुस्कुराओ, 
प्यार की मीठी खुशबू से,
एक नया सिलसिला बनाओ,
हो न कोई गम जहां,
आओ हम चल पड़ें वहां,
जीवन की प्यारी कलियों से ,
आओ हम तुम पुष्प खिलाएं,
पुष्प हों इतने प्यारे के वो,
वरमाला खुद ही बन जाएँ ।


If you liked this poem of mine, please write your comment in the comment box below and do not forget to share the post,
Regards, Jasvinder Singh, Himachal Pradesh