“चले चलो”(Keep Going)

जब हमें मनोवांछित सफलता नहीं मिल पाती तो हम निराश होने लगते हैं और लोग भी कुछ न कुछ ताने मारते रहते हैं। यदि हम उन सभी नकारात्मक बातों को छोड़ कर नए जोश और उत्साह से बार बार प्रयत्न करते रहते हैं तो प्रसन्न रहने के साथ साथ, सफलता भी हमारे कदम चूमती है।
When we don’t get the desired success, we start getting frustrated and people also start taunting. If we leave all those negative things and try again and again with renewed vigor and enthusiasm then along with being happy, we achieve success too.

दबा दबा क्यों रहता है,
बोझ दिल पे सहता है,
दूसरों की बातों को,
साथ ले के चलता है,
इन झुकी सी नजरों से,
इन बोझिल कदमों से,
काम न चल पाएगा,
इन बुझे से जज्बों से,
उठ जाग – न भाग,
न छोड़ कठिन रास्तों को,
झाड़ दे लोगों की,
उन अनर्गल बातों को,
छोड़ दे फिकर विकर,
और चलाचल होश से,
संघर्ष कर स्वयं से ही,
और भर लबालब जोश से,
मिलेगी मुक्ति तुझे,
दमन के इस चक्र से,
छोड़ दे आसान राह,
और चलाचल फख्र से।


Let’s express your views about this motivational poem and please don’t forget to share. Regards, Jasvinder Singh